Google+ Followers

Thursday, June 20, 2013

शायरी

इक तू है तेरी बात है चर्चा है बस तेरा ,

कुछ लोग कह रहे थे मुझपे तेरा असर है ।

कुछ भी कहे दुनियां मुझे दुनियां का गम नही ,

कहीं इश्क तो नही है ये इसी बात का डर  है ।  

No comments:

Post a Comment