Google+ Followers

Saturday, June 15, 2013

इश्क बे - वजह क्यूँ दी

दिल तो इश्क का राही था मुलाजिम तो न था  ,
कोई बताये तो मुझे इश्क ने सजा क्यूँ दी ।

जब भी सजदा किया खुदा का सनम याद आया ,
दवा करने गये थे और गम बढ़ा क्यूँ दी ।

दिल को कहते हैं सब दिल तो खुदा का घर है ,
मेरे खुदा ने घर में रह के घर जला क्यूँ दी ।

बहुत ही दर्द है दिल में मेरे सुनता क्यूँ नही ,
मैंने माँगा तो न था इश्क बे - वजह क्यूँ दी । 

No comments:

Post a Comment