Google+ Followers

Saturday, June 15, 2013

तुम बदला नही करना

कुछ कह सकूँ ऐसे मेरे हालत नही हैं ,
चुपचाप गुजर जाऊं तो शिकवा नही करना ।

ताना तुम्हे देगा जहाँ मुझे बेवफा कहके ,
दुनियां की बातें बे-वजह सुना नही करना ।

कितने अजीज हो मुझे तुमको भी पता है ,
मेरे प्यार पे शक करके तुम रोया नही करना ।

दुनियां तो मजा लेती है ऑरों  के दर्द का ,
हर एक से ये राजे - दिल कहा नही करना ।

अच्छा -  बुरा जो भी हो समय आता है सबका,
बस जुदाई की बातों को ही सोंचा नही करना  ।

मुझपे यकीन रखना हम मिलेंगे एक दिन ,
पर रोज - रोज राह भी देखा नही करना ।

रखना सम्भाल कर सदा मेरे प्यार को दिल में ,
बदलेगा वक्त फिर भी तुम बदला नही करना । 

No comments:

Post a Comment