Google+ Followers

Friday, June 7, 2013

शायरी

कहने को लब खोले तो थे ये सोंचकर के चुप रहे ,,,,


वो प्यार भी क्या प्यार जिसको कहके समझाना पड़े ।

No comments:

Post a Comment