Google+ Followers

Monday, June 10, 2013

शायरी

रात जले बेकरारी में दिन गुजरे खुमारी में ,


अगर यही इश्क है तो इश्क से तौबा किया मैंने । 

No comments:

Post a Comment