Google+ Followers

Thursday, May 23, 2013

शायरी

हर रोज एक - दूजे को देते हैं सफाई ।
                           कभी इसकी दुहाई तो कभी उसकी दुहाई ।

इसी बात में तो दोस्ती का असली मजा है ,
                       कभी गुस्से में प्यार हो कभी प्यार में लड़ाई ।

No comments:

Post a Comment