Google+ Followers

Sunday, May 12, 2013

शायरी

 रोज का ये फलसफा है , रोज ही ये बात होगी ।
                           सुबह होगी दिन ढलेगा  , शाम होगी रात होगी ।

किसलिए दिल गमजदा है ,जिन्दगी बांकी अभी ,
                आज अपना दिन नही है कल तो किस्मत साथ होगी । 


No comments:

Post a Comment