Google+ Followers

Monday, May 20, 2013

शायरी

किसी की जिन्दगी में इसकदर शामिल ना  हो ।

जब निकलना हो ,निकलने में मुश्किल ना हो ।

दिल लगाने में इतना तो एहतियात रखें ,,

मिलने बिछड़ने में जख्मी किसी का दिल ना हो । 

No comments:

Post a Comment