Google+ Followers

Wednesday, May 22, 2013

शायरी

उलझनें हैं बहुत इनमे उलझ के न बिखड़ना ।
                                बेवजह दुनियां के झमेले में न पड़ना  ।

ये जिन्दगी सदा दोस्तों के साथ बसर हो  ,
                              इतनी सी दुआ करना कुछ और न करना ।

No comments:

Post a Comment