Google+ Followers

Friday, May 17, 2013

शायरी

चंद सिक्कों की खनक सुनके कैसे खो गया है ,,


खुदा ही जाने अब इंसान को क्या हो गया है । 

No comments:

Post a Comment