Google+ Followers

Sunday, May 12, 2013

शायरी

इतनी जहमत न उठाओ झुकाने को मुझे ,


बस तुम प्यार कह दो सर हमारा खुद ही झुक जाये ।  

No comments:

Post a Comment