Google+ Followers

Thursday, April 11, 2013

शायरी

मेरी जिन्दगी मुझसे ,  यूँ जुदा नही होती ।
                      मेरी खुशियाँ कभी ,  मुझसे खफा नही होती ।

सच है की जुदाई कभी  ,  तयशुदा नही होती  ।
            पर तेरा क्या बिगड़ जाता ,जो तू बेवफा नही होती  ।

No comments:

Post a Comment