Google+ Followers

Tuesday, April 9, 2013

इश्क छोड़ा न जा सका

खाब टूटने से इस कदर दिल टूट गया था ,
की लाख कोशिशों के बाद भी जोड़ा न जा सका ।

बरबादियों के धार में , ऐसी लहर उठी ,
बांध बांधा न जा सका , रुख मोड़ा न जा सका ।

उसने इस कदर आदत लगाई इश्क की मुझको ,
सांसें छुट भी गईं  , इश्क छोड़ा न जा सका ।


3 comments:

  1. बाह सुन्दर ,सरस रचना . बधाई .
    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आने का कष्ट करें .

    ReplyDelete
  2. उसने इस कदर आदत लगाई इश्क की मुझको ,
    सांसें छुट भी गईं , इश्क छोड़ा न जा सका ...

    Vaah .. Kya lajawab baatkahi hai ... Ishq aisi bimaari hai jo chootti nahi umr bhar ...

    ReplyDelete
  3. दिगम्बर नासवा ji ,Madan Mohan Saxena ji ...
    .bhut bhut dhnyavad .

    ReplyDelete