Google+ Followers

Friday, April 26, 2013

दोस्ती के दीवाने

अगर हक जताऊ जताने न देंगे ।
जो मैं दूर जाऊ तो जाने न देंगे ।

आती नही दोस्ती भी निभानी ,
निभाऊ जो मैं तो निभाने न देंगे ।

मेरे दोस्तों की तो खूबी यही है ,
कभी दोस्ती को भुलाने न देंगे ।

ख़ुशी में कभी साथ दे या नही दे ,
कभी तन्हा आंसू बहाने न देंगे ।

आदत मेरी रूठ जाने की ज्यादा ,
मगर रूठने के बहाने न देंगे ।

अगर रूठ जाऊ कभी भूल से मैं ,
बहुत देर मुझको सताने न देंगे ।

यही मांगते हैं दुआ हम खुदा से ,
ये दिन दूर दिल से अब जाने न देंगे ।

कैसे जियेंगे भला दोस्तों बिन ,
अगर दोस्ती के दीवाने न देंगे ।


No comments:

Post a Comment