Google+ Followers

Wednesday, April 24, 2013

शायरी

मैं खिलौना बन चूका हूँ या खुदा दिल के लिए ,,

जब भी वो चाहे  ,हंसता है ,रुलाता है मुझे । 

No comments:

Post a Comment