Google+ Followers

Saturday, April 20, 2013

इंसान बनना रह गया

कुछ बात बांकी रह गई ,
                     कुछ दर्द कहना रह गया ।
मेरे हिस्से में तो बस ,
                 तेरा गम ही सहना रह गया ।

जिन्दगी है इक नदी ,
                    इस पार मैं ,  उस पार तुम ,
दो पाट में हम बंट गये ,
                     इक साथ बहना रह गया ।

उम्रभर क्या- क्या बने ,
                       इसका बने , उसका बने ,
आदमी ही रह गये ,
                        इंसान बनना रह गया ।  

No comments:

Post a Comment