Google+ Followers

Tuesday, April 23, 2013

तुम ही कहो मैं क्या करूँ

तुम ही कहो मैं क्या करूँ ,
                 किस बात का चर्चा करूँ ।
दिल देने से तो तुम रहे ,
                बस मैं ही दिल खर्चा करूँ।

ताला लगा रखा है तूने ,
                 दिल के विद्यालय में क्यूँ ,
किसमें लूं मैं दाखिला ,
                किस नाम से पर्चा भरूं ।

तुमने कहा कुछ कर तो लो,
                 दिल नाम कर डाला तेरे ,
ले दिल का सौदा  कर लिया ,
           अब इससे क्या अच्छा करूं।  

No comments:

Post a Comment