Google+ Followers

Wednesday, April 24, 2013

शायरी

मेरे दोस्त तुझमे बगावत नही थी ,
                जिन्दादिली थी , शराफत भड़ी थी ।

मगर ये खलिश क्यूँ भरम दे रही है ,
                  न थी दोस्ती वो तेरी दिल्लगी थी ।


No comments:

Post a Comment