Google+ Followers

Sunday, April 21, 2013

मेरी दोस्ती याद आये तो कहना

कोई दिल में शिकवा जो आये तो कहना ।
कभी गम कोई जो सताये तो कहना ।

अभी भीड़ में हो बहुत साथ होंगे  ,
तन्हाई जी जब जलाये तो कहना ।

अभी बोलता है नशा सर पे चढके ,
कभी होश तुमको जो आये तो कहना ।

 माना भरोसा  नही तुमको हम पर  ,
मगर शक कभी आ भी जाए तो कहना ।

कोई जब न समझे गमें हाल तेरा ,
मेरी दोस्ती याद आये तो कहना ।


No comments:

Post a Comment