Google+ Followers

Saturday, April 20, 2013

शायरी

चाह है किसकी भला की गम से होवे वास्ता ,

क्या करे मिलता न हो गर जो ख़ुशी का रास्ता ।

No comments:

Post a Comment