Google+ Followers

Friday, April 19, 2013

ढूंढता है अब भी दिल

ढूंढता है अब भी दिल ,
                  उसका ही साया किसलिए ।
वो भी तो समझे नही ,
                    मुझको पराया किसलिए ।

अहमियत देनी न थी जब ,
                      दुनियां में दिल की खुदा ,
बेवजह ही नासमझ सा  ,
                      दिल बनाया किसलिए ।

मैं नही जाता बुलाने से भी ,
                               उसके पास जब ,
आता है वो याद बनके ,  
                      बिन बुलाया किसलिए ।

दिल बड़ा नादान है ,
                      समझा न धोखेबाज को ,
मैं भला नादान की ,
                     बातों में आया किसलिए । 

No comments:

Post a Comment