Google+ Followers

Thursday, April 18, 2013

किस्सा पुराना

धडकन की लय ने जोड़ा एक तान- बाना था ।
                       जिन्दगी खाब थी , एक अंजाना फसाना था ।

प्यार के नाम पर इतनी कहानी याद है हमको ,
                    मैं उसकी दीवानी थी ,और वो मेरा दीवाना था ।

हर इक रात सुंदर थी ,परियों की कहानी सी ,
               प्यार के नाम से हर एक पल, हर दिन सुहाना था ।

दुनियां की सभी बातें , बड़ी  बेमानी लगती थी ,
                अपने ठोकर में थी दुनियां,  कदमों में जमाना था ।

अब बस यादें है बाकि  , उन बीते हुए दिन की ,
                    वो अच्छा - बुरा जो था ,बस किस्सा पुराना था ।


No comments:

Post a Comment