Google+ Followers

Thursday, April 11, 2013

शायरी

कितनी मेहनत की उसने मुझको तोड़ने के लिए ,


मैं  भी इन्सां हूँ , वो इस बात से वाकिफ ही न था । 

No comments:

Post a Comment