Google+ Followers

Thursday, March 28, 2013

शायरी

लो इस बार भी, फीकी - फीकी होरी रह गई ।
                     कान्हा के बिना तन्हा , ब्रज की गोरी रह गई ।

होली की मची धूम , उड़े रंग और गुलाल ,
                           रंगों के दिन भी , मेरी चुनर कोरी रह गई ।

No comments:

Post a Comment