Google+ Followers

Wednesday, March 13, 2013

शायरी

खाबों के गुलशन में , पलने तो दो ।
                     कोंपल से बाहर, निकलने तो दो ।

अभी से मेरी खुशबू क्यूँ मापते हो ,
                       कली हूँ  ,मुझे फूल बनने तो दो ।

No comments:

Post a Comment