Google+ Followers

Friday, March 29, 2013

शायरी

इनायतें हैं हो रही , जियादा गरीब पर ,

लगता है की साहिब हैं फिर, नये फितूर में ।

No comments:

Post a Comment