Google+ Followers

Friday, March 29, 2013

ऐ बेपरवाह दिल ,

ऐ दिल ऐ बेपरवाह दिल ,
                                   क्या ना  सहें ,तेरे वास्ते  ।
अच्छा है अब, हो जाए जुदा ,
                                        तेरे रास्ते , मेरे रास्ते ।

क्या - क्या कहें , क्या - क्या सहें ,
                          किस - किस का हम शिकवा करें,
छोड़ा नही  किसी काम का ,
                              तू  ही  बता  , हम  क्या  करें ।

अच्छा सिला ये तूने दिया ,
                               जो भी था सब कुछ ले लिया ।
कभी हम भी दिल के नवाब थे ,
                               अब दरबदर मुझे कर  दिया । 

जाने तेरे  , हैं इरादे क्या ,
                               किस की गली में तू खो गया ।
मेरा होके  भी , न मेरा हुआ ,
                              उस  बेवफा  का  तू  हो  गया । 

No comments:

Post a Comment