Google+ Followers

Thursday, March 7, 2013

शायरी

ढपोरशंख की डफली लेकर , वादों का दम भरते नेता ।
                      जनता की झोली के धन से , अपनी झोली भरते नेता ।

भ्रष्टाचार की कालिख लेकर , खेला करते रोज ही होली  ,
                        भारत माँ की मैली चादर ,और भी मैली करते नेता ।

No comments:

Post a Comment