Google+ Followers

Thursday, March 21, 2013

शायरी

तू इस कदर मुझको आजमां रहा है क्यूँ ,

है डर मुझे, मैं तोड़ दूँ फिर से न दोस्ती । 

No comments:

Post a Comment