Google+ Followers

Thursday, March 21, 2013

शायरी

मैं तेरे हुनर देखके हैरान नही हूँ ,

चुपचाप देखती हूँ तेरे रंग हैं कितने । 

No comments:

Post a Comment