Google+ Followers

Thursday, March 28, 2013

शायरी

 हालात के मारे हैं , फकीरी में रात - दिन ,

और लोग समझते हैं ,  मुहब्बत में पड़े हैं । 


No comments:

Post a Comment