Google+ Followers

Friday, March 29, 2013

शायरी

वो हैरत में हैं ,  क्यूँ कोशिशें नाकाम हो गईं ,

जिद भी हैं क्या , तोड़ेंगे पत्थर से पानी को ।

No comments:

Post a Comment