Google+ Followers

Friday, March 8, 2013

शायरी

वफा के बदले आया इतना ही मेरे हिस्से में ,

रह गया जिक्र बनके तू  मेरे हर किस्से में । 

No comments:

Post a Comment