Google+ Followers

Sunday, March 24, 2013

शायरी

खुशियों की तलाश में , कई गम भी मिले हैं ।
                 मुस्कान की चाहत की तो मातम भी मिले हैं ।

कभी जानवर इन्सां से वफादार भी मिलें ,
                     कभी आदम को ही लूटते आदम भी मिले हैं । 

No comments:

Post a Comment