Google+ Followers

Wednesday, March 13, 2013

शायरी

मिलती हुई झुकती  हुई ,  नजरों का सितम है ।
                   तुमको भी कसम है सनम , हमको भी कसम है ।

मिल जाए तब समझना , हकीकत है मुहब्बत ,
                       खो जाए तो कह देना की ये दिल का भरम है । 

No comments:

Post a Comment