Google+ Followers

Wednesday, March 13, 2013

शायरी

गम पूछने वाले हजार लोग मिलते हैं ,
                        मिलता नही कहीं कोई गम बांटने वाला ।

इश्के - जहर बना के खुदा भूल ही गया ,
                        इक काट न बनाया , जहर काटने वाला । 


3 comments:

  1. आपका बहुत बहुत आभार दिगम्बर नासवा जी और नेहा जी

    ReplyDelete